Total Views: 79

लखनऊः कला एवं शिल्प महाविद्यालय में संवाद श्रृंखला के अंतर्गत प्रख्यात कॉमिक आर्टिस्ट एवं इंटरनेशनल एजुकेटर (वीडियो गेम्स एंड एनीमेशन) दिलीप चौबे का सेशन आयोजित किया गया।*

अमेरिका व सिंगापुर में 14 साल से ज़्यादा समय तक काम कर चुके दिलीप चौबे ने प्रधान मंत्री के मेक इन इंडिया इनिशिएटिव से प्रभावित होकर लखनऊ को अपनी कर्म भूमि के रूप में चुना है। उनका कहना है के वह लखनऊ को दुनिया के पटल पर एनिमेशन हब के रूप में स्थापित करना चाहते हैं। वह 10 लाख रुपए महीने कि नौकरी को छोड़ कर फिर से भारत लौट आए है।
मूल रूप से देवरिया के रहने वाले चौबे अमेरिका के के सबसे प्रख्यात इंस्टिट्यूट डिजिपेन में अध्यापन का कार्य कर चुके हैं। उन्होंने छात्रों को स्केचिंग पर विशेष मेहनत करने की सलाह दी। उन्होंने जेस्चर ड्राइंग के महत्व को महत्व पूर्ण बताया। सिंगापूर में रहते हुए उन्होंने 100 से ज़्यादा कॉमिक करेक्टर्स पर का निर्माण किया जो भारतीय हैं।
उनके द्वारा डिज़ाइन की गई सभी कॉमिक के करैक्टर देसी हैं। जल्द ही वो लखनवी सुपर हीरो पर आधारित कॉमिक बुक लांच कर रहे है जिसकी डिज़ाइन तैयार हो चुकी है। जिसका मुख्य पात्र है गुड्डू दरोगा। कॉमिक की प्रथम सीरीज का नाम UP -41 होगा और इसी सीरीज की अगली कॉमिक होगी UP – 32। वह भारतीय बच्चों को अपने खुद के भारतीय सुपर हीरो देना चाहते है।
भारत में अपने करियर की शुरुवात में राज कॉमिक्स के लिए उन्होंने 300 से ज़्यादा कॉमिक में इलस्ट्रेशंस व करैक्टर डिज़ाइन किये थे। आज उनका सपना है की देसी खिलौनों के अलावा विदेशों की तरह उनकी भी कलेक्टेबले टॉय सीरीज लॉंन्च करें, जो की जल्द साकार होने वाला है। इस सीरीज की शुरुवात रावण, राम और हनुमान के खिलौनों से हो रही है। इसके 3-डी प्रिंटेड मॉडल तैयार हैं और जल्द ही पूना स्थित फैक्ट्री में उसका निर्माण शुरू हो जाएगा।

भारत सरकार द्वारा चाइनीज़ खिलौनों पर प्रतिबन्ध लगाए जाने के बाद भारत में इस सेक्टर में प्रोफेशनल की डिमांड में भरी इज़ाफ़ा हुआ है। इसी वजह से दिलीप चौबे भारत में कॉमिक, एनीमेशन व टॉय इंडस्ट्री के लिए नए टैलेंट की खोज में भारत के विभिन्न राज्यों में घूम रहे हैं।
दिलीप चौबे के द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी भी छात्रों के लिए आकर्षण का केंद्र रही। जिसमे उन्होंने मॉडल स्टडी के स्केच, अपने द्वारा बनाई गई कॉमिक बुक व खुद के द्वारा डिज़ाइन किये टॉयज का डिस्प्ले किया था जिसमे नवरस पर आधारित खिलौने भी शामिल हैं। इस अवसर पर कॉलेज के संकायाध्यक्ष/प्राचार्य रतन कुमार ने इलस्ट्रेशन पर आधरित उनकी पुस्तक का विमोचन किया व बुके देकर उनका सम्मान किया।
करियर टॉक सेशन में छात्रों ने एनीमेशन व टॉय इंडस्ट्री में करियर की संभावनाओं से सम्बंधित सवाल पूछे। प्रोफेसर अलोक कुमार ने धन्यवाद् ज्ञापित करते हुए हुए छात्रों को इस उभरते हुए क्षेत्र में कार्य करने की सलाह दी।

इस अवसर पर रवि पांडेय, अतुल हुंडू, अमृत सिन्हा, सपना बाजपई, सुगंधा माहेश्वरी, संजय राज व बड़ी संख्या में छात्र उपस्थित थे।

Leave A Comment