Total Views: 75

बापू बाजार का मुख्य उद्देश्य घर के पुराने काम आने वाले सामानों, वस्तुओं, व कपड़े आदि को लोगों को उनके स्वाभिमान को बिना ठेस पहुंचाए रियायती दरों पर उपलब्ध कराना
आगराः गृहविज्ञान संस्थान में आहार पोषण विभाग के द्वारा “अर्न वाइल यू लर्न” Earn while you learn के तहत फ़ूड कार्नर का आयोजन किया गया. कार्यक्रम का उद्घाटन भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. आशु रानी के द्वारा किया गया। कार्यक्रम में प्रो सुन्दरलाल शर्मा (पूर्व कुलपति, जौनपुर विशविद्यालय), प्रो. वीसी प्रो अजय तनेजा, डीन अकेडमिक प्रो संजीव शर्मा, इतिहास विभाग के प्रो बीडी शुक्ला उपस्थित रहें।

संस्थान की छात्राओं द्वारा फ़ूड कार्नर का भी आयोजन किया गया. फ़ूड कार्नर में छात्राओं द्वारा सूजी और आटा गोलगप्पे, स्प्राट्स चाट, चुकंदर इडली, वेजिटेबल स्टफड इडली, न्यूट्री भेल आदि के स्टाल लगाए गए. इसके साथ dehydreted प्रोडक्ट्स पापड़, चिप्स, सूजी कुरैरी आदि भी छात्राओं के द्वारा बनाये गए और बेचे गए. यह खाद्य सामग्री उनके द्वारा स्वास्थ्य को ध्यान में रखे कर खुद बनाये गए.
फ़ूड कार्नर में लगी हुई स्टाल का प्रोडक्ट्स का सेवन आसपास की बस्तियों से आये हुए लोगो के द्वारा किया गया और खरीदा गया और सभी ने उनकी सरहाना की. कार्यक्रम को सफल बनाने में प्रो. अर्चना सिंह, सह समन्वयक मिस प्रिया यादव, आयोजन सचिव डॉ दीप्ति सिंह और विभाग की शिक्षिकाओं डॉ. रश्मि शर्मा, डॉ. ममता सारस्वत, डॉ संघमित्रा गौतम, डॉ. नेहा सक्सेना, डॉ प्रीति यादव, शिक्षिका अनन्या, डॉ. अनुपमा गुप्ता और पीएचडी स्कॉलर कनुप्रिया का योगदान रहा।
इसके साथ ही विश्वविद्यालय की कुलपति प्रोफेसर आशु रानी एवं बापू बाज़ार के संस्थापक प्रोफ़ेसर सुंदरलाल शर्मा (पूर्व कुलपति, जौनपुर विश्वविद्यालय) द्वारा किया गया।
बापू बाजार का मुख्य उद्देश्य घर के पुराने काम आने वाले सामान, वस्तुएं, व कपड़े आदि को लोगों को उनके स्वाभिमान को बिना ठेस पहुंचाए रियायती दरों पर उपलब्ध कराया जाना है। बापू बाजार में कई साड़ी, पैंट, शर्ट, बच्चों के कपड़े, खिलोने, गर्म कपड़े, जूते चप्पल आदि बिके।
संस्थान की समस्त छात्राएं वंशिका, प्रियंका, अनिष्का, हुडा, रागिनी, अलीशा, ईशा आदि उपस्थित रहीं व उन्होंने लोगों को पॉलिथीन न प्रयोग करने के लिए मार्गदर्शित किया। पर्यावरण बचाओ व स्वच्छता का संदेश भी छात्राओं द्वारा दिया गया।

Leave A Comment