Total Views: 30
वाराणसीः विज्ञान संस्थान के महामना सभागार में चौबीसवाँ एस पी रे चौधरी मेमोरियल व्याख्यान देते हुवे, भारत रत्न, हरित क्रांति के जनक प्रो. एम. एस. स्वामीनाथन की बेटी और डब्लूएच्ओ की पूर्व चीफ साइंटिस्ट डॉ सौम्या स्वामीनाथन नें “लेसन फ्रॉम दी पैनडेमिक फॉर साइंस एंड पब्लिक हेल्थ” विषय पर विज्ञान संस्थान के महामना सभागार में कहा की, प्रथम और द्वितीय विश्वयुद्ध में जितनी जान माल की क्षति हुई उससे कहीं ज़्यादा नुक़सान कोविड से हुआ।
कोविड महामारी ने भारत सहित सभी देशों के लिए एक अभूतपूर्व चुनौती पेश की। महामारी ने लोगों को समझा दिया की स्वास्थ्य हमारे लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज है, जिसके लिये विज्ञान और प्रौद्योगिकी में तेजी से प्रगति हुई।
विज्ञान की प्रगति से ही हम और वायरस और इसके रोगजनन को बेहतर तरीक़े से समझ सकते है, और उस पर विजय पाने के लिए नये उपकरण विकसित करने के लिए उस ज्ञान का उपयोग कर सकते है। वर्तमान में उपलब्ध वैज्ञानिक उपकरणों का उपयोग विज्ञान के चार क्षेत्रों (सर्विलांस, बेसिक रिसर्च, ट्रांसलेशनल रिसर्च और क्लिनिकल ट्रायल्स) पर केंद्रित करते हुवे हम किसी आने वाले उभरते नये वायरस खतरों को सक्रिय रूप से प्रबंधित करके बेहतर अनुसंधान कर सकते है।
मौजूदा और भविष्य के महामारी जोखिमों की निगरानी और आकलन के लिए नए पैथोजन की निरंतर खोज और ज्ञात पैथोजन का सर्विलांस नितांत आवश्यक है। इन रोगजनकों का चयन विशिष्ट मानदंडों के आधार पर किया जाता है, जो मौलिक अनुसंधान को बढ़ावा देते हैं और उभरते भविष्य के खतरों के लिए हमारी तैयारी को बढ़ाता है।
उन्होंने वैज्ञानिकों की प्रशंशा करते हुवे कहा की, किसी भी वैक्सीन के विकास में कम से कम 10-15 वर्ष लगते है, लेकिन यह वैज्ञानिकों की मेहनत का परिणाम था, की हम इतनी तेज़ी से कोविड की वैक्सीन बना सके। कोविड के पहले सबसे तेज़ी से मम्प्स की वैक्सीन बनी थी जिसमे 4 वर्ष लगे थे।
सभा के मुख्य अतिथि बीएचयू के पूर्व वीसी प्रोफेसर पंजाब सिंह नें कहा की किसी भी भविष्य की महामारी के लिए वैज्ञानिकों को समग्र रूप से काम करना होगा।
सभा की शुरुवात में अध्यक्ष प्रोफेसर राजीव रमन नें प्रोफेसर एस पी रे चौधरी के व्यक्तिव और शोध के बारे में बताया।
सभा का संचालन प्रोफेसर मधु तापड़िया नें किया और डॉ गौरव पांडेय ने धन्यवाद ज्ञापन किया। इस अवसर पर विज्ञान संस्थान के डीन, डायरेक्टर के अलावा पूर्व डायरेक्टर प्रोफ़ अनिल त्रिपाठी, प्रोफेसर खरवार, प्रोफेसर एसबी अग्रवाल, प्रोफेसर कायस्था, प्रोफेसर एस सी लखोटिया, प्रोफेसर मर्सी जे रमन, डॉ समीर गुप्ता, डॉ बामा चरण मंडल, डॉ ऋचा आर्य सहित विभिन्न विभागों के विभागाध्यक्ष और छात्र छात्रायें उपस्थित थे।

Leave A Comment