Total Views: 184

प्रयागराजः इलाहाबाद विश्वविद्यालय का गांधी विचार एवं शांति अध्ययन संस्थान पूर्व वर्षों की भांति इस वर्ष भी महात्मा गांधी की पुण्यतिथि 30 जनवरी,2024 के अवसर पर साप्ताहिक कार्यक्रम करने जा रहा है।

30 जनवरी से आरंभ होने वाले इस साप्ताहिक कार्यक्रम में कबीर गायन, गांधी गीतों की प्रस्तुति, महात्मा गांधी पर केंद्रित प्रदर्शनी, विशेष व्याख्यान और विद्यार्थियों पर केंद्रित विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं आयोजित की की जायेंगी

दिनांक 30.01.2024 पुण्यतिथि के अवसर पर पुष्‍पांजलि एवं कबीर गायन / महात्‍मा गांधी के जीवन, विचार एवं दर्शन पर केन्‍द्रित प्रदर्शनी /विशेष व्‍याख्‍यान का आयोजन किया गया है। इसी क्रम में छात्र/छात्राओं हेतु 30.01.2024 को ‘महात्‍मा गांधी के नाम चिट्ठी’ पत्र लेखन प्रतियोगिता, 31.01.2024 को पोस्‍टर निर्माण प्रतियोगिता,01.02.2024 को निबंध लेखन प्रतियोगिता, 02.02.2024 को तात्‍कालिक भाषण प्रतियोगिता,03.02.204 को किताब पर बात एवं प्रश्‍न-मंच प्रतियोगिता,05.02.2024 को गांधी गीतों की प्रस्‍तुति / संस्‍मरण लेखन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया है।समस्त कार्यक्रम एवं प्रतियोगिताएं गांधी भवन के सभागार और मंडपम में दोपहर 12:00 बजे से आयोजित की जाएंगी । 6 फरवरी 2024 को गांधी सप्ताह का समापन समारोह किया जाएगा इस अवसर पर सभी प्रतियोगिताओं की विजेताओं को प्रमाण-पत्र और विशेष व्याख्यान का आयोजन किया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि इलाहाबाद विश्वविद्यालय का अभिन्न अंग है गांधी विचार एवं शांति अध्ययन संस्थान। गांधी विचार और शांति अध्ययन संस्थान (गांधी भवन) इलाहाबाद विश्वविद्यालय के तत्वावधान में वर्ष 1961 में स्थापित एक प्रमुख संस्थान है, जिसका उद्देश्य गांधी, उनके विचार और दर्शन पर अध्ययन, विचार एवं शोध को बढ़ावा देना है। यह अपनी तरह का विशेष शोध-संस्थान है जो गांधीवादी दर्शन के बारे में जागरूकता पैदा करने और वर्तमान समकालीन समाज को गांधीवादी दृष्टि से मूल्यांकित करता है। संस्थान संगोष्ठियों, गोष्ठियों और अन्य शैक्षणिक गतिविधियों का आयोजन करके सामाजिक संवाद और परिवर्तन के एक उपकरण के रूप में कार्य करता है।

संस्थान के निदेशक प्रो.संतोष भदौरिया ने बताया कि संस्थान में महात्मा गांधी और अन्य दार्शनिकों पर पुस्तकों, समाचार पत्रों, लेखों, संस्मरणों आदि के विविध संग्रह के साथ एक सम्मेलन कक्ष, गांधी मंडपम और एक समृद्ध पुस्तकालय है। संस्थान के पहले निदेशक प्रसिद्ध गांधीवादी और विचारक प्रोफेसर जे.एस. माथुर थे जिन्होंने संस्थान की नींव रखी। जे.के कुरुप्पा, सुरेश भाई, राजगोपाल और एमएन सुब्बाराव,महादेवी वर्मा,सुमित्रानंदन पंत, जैनेंद्र कुमार,सीमांत गांधी ,सुशीला नय्यर आदि ने विगत वर्षों में दौरा किया और संस्थान को ख़ूब सराहा है। माननीय कुलपति प्रो. संगीता श्रीवास्तव के दूरदर्शी नेतृत्व में संस्थान रचनात्मक और अकादमिक दिशा की बेहतरी की दिशा में अग्रस है।

प्रेषक
गांधी भवन
इलाहाबाद विश्वविद्यालय।

Leave A Comment