Total Views: 21

मेरठः मेडिकल कालेज के मीडिया प्रभारी डा वी डी पाण्डेय ने बताया कि मेडिकल कॉलेज मेरठ के बाल रोग विभाग में तीन दिवसीय नवजात शिशु स्टेबलाईजेशन यूनिट (एन बी एस यू ) का प्रशिक्षण डॉ अभिषेक सिंह आचार्य बाल रोग विभाग एवम नोडल अधिकारी द्वारा कराई गई।

डॉ अभिषेक सिंह ने बताया कि ट्रेनिंग में विभिन्न जिलों से आए हुए 21 चिकित्सकों तथा स्टाफ नर्सों ने प्रतिभाग किया इस प्रशिक्षण में शिशु मृत्यु दर को घटाने के लिए सरकार की एक योजना है जिसमे बीमार पैदा होने वाले बच्चों तथा पैदा होते ही जिनको तकलीफ है उनको समय रहते इलाज प्राप्त कराने से उनकी जान को खतरा ना बने और उनका स्वास्थ्य बेहतर रहे इसके लिए ही चिकित्सकों को एवं स्टाफ नर्सों को प्रशिक्षित किया जाता है।

विभागअध्यक्ष बाल रोग विभाग डॉ नवरतन गुप्ता ने बताया कि प्रदेश में नवजात शिशु मृत्यु दर इस प्रकार के प्रशिक्षण से कम की जा सकती है इस प्रकार के प्रशिक्षकों द्वारा विभिन्न पीएचसी, सीएचसी पर भी बच्चों को उचित सुविधाएं दी जा सकती हैं डा नवरतन गुप्ता ने यह भी बताया कि इस प्रकार का प्रशिक्षण हमारे बाल रोग विभाग में समय-समय पर आयोजित होता रहता है। विगत वर्ष भी तीन बार प्रशिक्षण सत्र इस चिकित्सा महाविद्यालय द्वारा सफलता पूर्वक संपन्न कराए गए हैं।

डॉ विकास अग्रवाल आचार्य बाल रोग विभाग ने इसमें अपना अमूल्य योगदान दिया तथा इसमें विभाग के रेजिडेंट चिकित्सक डाक्टर आयुषी, डॉक्टर विनीत, डॉक्टर बृजेंद्र, डॉक्टर कोमल एवम अन्य रेजिडेंट डॉक्टर की भी प्रशंसनीय सहभागिता रही।

अग्रिम सप्ताह में दिनांक 15 फरवरी से 17 फरवरी इसी तरह के एक और प्रशिक्षण सत्र का आयोजन प्रस्तावित है जिसमें 24 चिकित्सकों और स्टाफ नर्सेज के बैच को प्रशिक्षण दिया जाना है।

प्रधानाचार्य डॉ आर सी गुप्ता ने बाल रोग विभाग को बधाई दी।

Leave A Comment