Total Views: 61


अलीगढ़, 16 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के यूजीसी मानव संसाधन विकास केंद्र (एचआरडीसी) द्वारा अकादमिक प्रशासकों के लिए आयोजित चार सप्ताह का ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम सफलतापूर्वक संपन्न हो गया। पाठ्यक्रम में विभिन्न संस्थानों के 38 अकादमिक प्रशासकों ने भाग लिया, जिनमें एएमयू सहित ईएफएलयू क्षेत्रीय परिसर लखनऊ, आईआईएम मुंबई, राष्ट्रीय फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय गांधीनगर, नागालैंड विश्वविद्यालय, दिल्ली विश्वविद्यालय आदि शामिल हैं।

समापन समारोह को सम्बोधित करते हुए एएमयू कुलपति प्रो. मोहम्मद गुलरेज ने अकादमिक प्रशासकों के लिए प्रशिक्षण अवसर प्रदान करने में आयोजकों के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने उच्च शिक्षा संस्थानों की दक्षता और प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए निरंतर सीखने और व्यावसायिक विकास के महत्व पर जोर दिया।

सहायक रजिस्ट्रार, सहायक नियंत्रक और सहायक वित्त अधिकारियों सहित प्रतिभागियों को सरकार-विश्वविद्यालय इंटरफेस, संचार कौशल, आरटीआई, सेवा नियम, व्यक्तित्व विकास और अकादमिक नेतृत्व जैसे विषयों पर जानकारी प्रदान की गई।

एएमयू रजिस्ट्रार श्री मोहम्मद इमरान, आईपीएस और यूजीसी एचआरडीसी एएमयू की निदेशक डॉ. फायजा अब्बासी ने प्रशिक्षण प्रदान किया।

श्री इमरान ने ‘सरकार और विश्वविद्यालयों के बीच इंटरफेस’ पर केंद्रित एक सत्र का संचालन किया। सत्र के दौरान, उन्होंने मंत्री स्तरीय संचार और नीति दस्तावेजों के बारे में जानकारी प्रदान की। उन्होंने प्रशासकों को पदानुक्रम के भीतर ऊपर और नीचे दोनों तरफ दस्तावेजों के प्रवाह का प्रबंधन करते समय आदेशों का अनुपालन सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर बल दिया।

डॉ. अब्बासी ने उच्च शिक्षा पारिस्थितिकी तंत्र को समझने और संबंधित लोगों के साथ प्रभावी ढंग से जुड़ने के महत्व पर प्रकाश डालते हुए अकादमिक प्रशासन की चुनौतियों पर जोर दिया।

यूजीसी एचआरडीसी एएमयू के पूर्व निदेशक प्रोफेसर ए आर किदवई के नेतृत्व में पाठ्यक्रम समन्वयकों ने प्रासंगिक विषयों की व्यापक जानकारी हासिल की।

प्रतिभागियों ने प्रशासनिक प्रक्रियाओं की समझ बढ़ाने में कार्यक्रम की प्रभावशीलता की सराहना की। एएमयू से फैसल फरीद और तारिक हुसैन, आईआईटी जम्मू से सौरभ महाजन, और आरएलबीसीएयू, झाँसी से संस्कृति त्रिपाठी ने ऑनलाइन प्रारूप में पाठ्यक्रम की गलतियों को रेखांकित किया।

——————————-

लार्सन एंड टुब्रो मेसर्स ने एएमयू के 24 छात्रों का चयन किया

अलीगढ़, 16 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जाकिर हुसैन इंजीनियरिंग कालिज के 34 छात्रों को लार्सन एण्ड टुब्रो, मुम्बई द्वारा आनलाइन कैम्पस प्लेसमेंट के माध्यम से विभिन्न पदो ंके चयनित किया है।

ज्ञात हो कि प्लेसमेंट ड्राइव में एमटेक, बीटेक तथा बीई और बीआर्क के 81 छात्रों ने भाग लिया था जिनमें से 34 ने कामयाबी हासिल की। चयनित छात्रों में स्नातक उम्मीदवारों को 6 लाख तथा प्रास्नातक छात्रों को 6.25 लाख वार्षिक परितोष पर नियुक्त किया गया है।

जेडएच कॉलेज इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के प्रशिक्षण एवं प्लेसमेंट अधिकारी, श्री फरहान सईद ने सफल उम्मीदवारों को बधाई देते हुए कहा कि उक्त कम्पनी द्वारा छात्रों को कड़े परीक्षण एवं साक्षात्कार के बाद चयनित किया गया है।

————————-

प्रोफेसर वीणा माहेश्वरी जेएनएमसी की कार्यवाहक प्रिंसिपल और सीएमएस नियुक्त

अलीगढ़, 16 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के मेडिसिन संकाय की डीन प्रोफेसर वीणा माहेश्वरी को जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कालिज का कार्यवाहक प्रिन्सिपल तथा सीएमएस नियुक्त किया गया है। उनकी नियुक्ति 16 फरवरी से अगले आदेश तक प्रभावी होगी।

————————

प्रोफेसर हम्माद उस्मानी विभागाध्यक्ष नियुक्त

अलीगढ़ 16 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के जेएन मेडिकल कॉलेज के एनेस्थिसियोलॉजी विभाग के प्रोफेसर हम्माद उस्मानी एनेस्थिसियोलोजी विभाग के नए चैयरमैन होंगे। वह 17 फरवरी को इस पद का कार्यभार ग्रहण करेंगे। उनका कार्यकाल तीन वर्ष के लिए होगा।

डॉ. हम्माद उस्मानी 2003 में सहायक प्रोफेसर के रूप में विभाग में शामिल हुए। उन्होंने जे.एन. मेडिकल कॉलेज अस्पताल में 2005 में पेन क्लिनिक शुरू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और तब से यह क्लीनिक क्रोनिक पेन, कैंसर पेन और न्यूरोपैथिक दर्द से पीड़ित रोगियों के अनुसंधान और प्रबंधन में लगा हुआ है।

उन्होंने प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में सिरदर्द, गर्भाशय ग्रीवा दर्द, कटिस्नायुशूल, हर्पेटिक न्यूराल्जिया, ट्राइजेमिनल न्यूराल्जिया, प्रेत अंग दर्द, जटिल क्षेत्रीय दर्द सिंड्रोम, कैंसर दर्द आदि सहित विभिन्न तीव्र और पुरानी दर्द स्थितियों पर कई शोध पत्र प्रकाशित किए हैं। इन पत्रिकाओं में पेन फिजिशियन, पेन मेडिसिन, रीजनल एनेस्थीसिया एंड पेन मेडिसिन, इंडियन जर्नल ऑफ एनेस्थीसिया, इंडियन जर्नल ऑफ पेन, जर्नल ऑफ एनेस्थिसियोलॉजी क्लिनिकल फार्माकोलॉजी आदि शामिल हैं।

प्रोफेसर उस्मानी ने 2019 से तीन वर्षों तक इंडियन जर्नल ऑफ पेन के मुख्य संपादक के रूप में कार्य किया और 2022 में, उन्हें आईएसएसपी (राष्ट्रीय) का संयुक्त सचिव नियुक्त किया गया। वर्तमान में वह नवंबर 2017 से मेडिकल अटेंडेंस स्कीम, एएमयू के निदेशक के रूप में कार्यरत हैं।

—————————

अलीगढ़ प्रदर्शनी में आपदा जागरूकता शिविर का आयोजन

अलीगढ़, 16 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जेडएच कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के सिविल इंजीनियरिंग विभाग द्वारा अलीगढ़ कृषि और औद्योगिक प्रदर्शनी में एक आपदा जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया।  शिविर का प्राथमिक लक्ष्य जनता को प्राकृतिक और मानव निर्मित आपदाओं, उनके प्रभावों और शमन के तरीकों के बारे में शिक्षित करना था। छात्रों और शिक्षकों द्वारा तैयार किए गए संरचनाओं और वर्षा जल संचयन प्रणालियों के लिए सुरक्षा उपायों का माडल प्रदर्शित किया गया। इसके अतिरिक्त, भूकंप, बाढ़, चक्रवात, भूस्खलन और मानव निर्मित पर्यावरणीय संकट जैसी आपदाओं को दर्शाने वाले पोस्टर भी लगाये गये। विभिन्न प्रकार की आपदाओं के खिलाफ एहतियाती उपायों को प्रदर्शित करने वाले लाइव वीडियो दिखाए गए, और आगंतुकों को सूचनात्मक साहित्य वितरित किया गया।

विभाग के पूर्व अध्यक्ष और मुख्य अतिथि प्रोफेसर रजाउल्लाह खान ने ऐसे शिविरों के ऐतिहासिक संदर्भ पर प्रकाश डाला और विभाग के प्रयासों की सराहना की।

संकाय के डीन प्रो. अल्तमश सिद्दीकी ने ऐसे जागरूकता अभियानों के महत्व पर जोर दिया और उपस्थित लोगों को आपदा के बाद की तैयारियों और शमन रणनीतियों के बारे में जानकारी दी।

एएमयू के प्रॉक्टर प्रोफेसर मोहम्मद वसीम अली ने विभाग की पहल की सराहना की और आपदा प्रबंधन तकनीकों पर विस्तार से चर्चा की। विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर इजहारुल हक फारूकी ने प्रतिभागियों और उपस्थितजनों का आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन प्रो. एम. मसरूर आलम ने किया।

——————-

नए कोर्ट सदस्य नामित

अलीगढ़ 16 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के म्यूजियोलॉजी विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर अब्दुर्रहीम के., मनोविज्ञान विभाग की अध्यक्ष प्रोफेसर असमां परवीन और फिजियोलॉजी विभाग की अध्यक्ष प्रोफेसर मीनाक्षी गुप्ता को अध्यक्षों के बीच उनकी वरिष्ठता के आधार पर तीन वर्ष की अवधि के लिए या जब तक वे अपने संबंधित विभागों के अध्यक्ष हैं, एएमयू कोर्ट का सदस्य घोषित किया गया है।

—————-

आंतरिक शिकायत समिति का पुनर्गठन

अलीगढ़ 16 फरवरीः अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की आंतरिक शिकायत समिति (आईसीसी) का पुनर्गठन किया गया है, जिसमें अंग्रेजी विभाग की प्रोफेसर समीना खान को इसका पीठासीन अधिकारी नियुक्त किया गया है।

उच्च शिक्षण संस्थानों में महिला कर्मचारियों और छात्रों के यौन उत्पीड़न की रोकथाम, निषेध और निवारण के लिए यूजीसी नियमों के अनुसरण में कुलपति द्वारा आईसीसी का पुनर्गठन किया गया है।

समिति के अन्य सदस्यों में प्रोफेसर आसिया चैधरी (वाणिज्य विभाग), प्रोफेसर रूमाना एन. सिद्दीकी (मनोविज्ञान विभाग), डॉ. शालिनी गुप्ता (सीएमओ, जेएनएमसी), सुश्री मेहविश (निजी सहायक, पश्चिम एशियाई और उत्तरी अफ्रीकी अध्ययन विभाग), सुश्री सना (बी.एससी. द्वितीय वर्ष, बेगम अजीजुन निसा हॉल), सुश्री अलीना जैदी (एमए फाइनल मनोविज्ञान, बेगम अजीजुन निसा हॉल), सुश्री दिव्या वर्मा (पीएचडी फिना आर्ट्स, बेगम अजीजुन निसा हॉल) और सुश्री रूही जुबेरी ( अध्यक्ष, महिला कल्याण सोसायटी, जिया कंपाउंड, मैरिस रोड, अलीगढ़) शामिल हैं।

Leave A Comment